Be a Volunteer

भूत-Ghost-Bhoot-Paranormal activity-paranormal ghost-Scary Ghost-Bhoot ki kahani-Bhoot games-Ghost rider-Ghost games-Ghost video-Funny ghost video-Ghost stories-Real ghost-Ghost online-Ghost images-Bhoot photo-Bhoot pics
Go to group page

फिर एक नई सुबह का इंतजार!!! Bhoot ki kahani latest in hindi - Scary stories online

Tuesday, 17 April 2012
फिर एक नई सुबह
का इंतजार!!!


फिर एक नई सुबह का इंतजार था सबको! सभी डरे सहमे से सुबह होने का इंतजार कर रहे थे! समय गुजारना मुश्किल था एक एक पल मानो पहाड़ सा प्रतीत हो रहा था!
 
उस दिन सभी घर से निकलते समय बहुत खुश थे!
 
नमन्, मानव, वाहिद, प्रिया और गीत सभी को अपने - २ घर से निकल कर ठीक ९ बजे रोहित के घर पहुचना था!
और सभी ९.००  बजे रोहित के घर के सामने खड़े रोहित का इंतजार कर रहे थे!
 
रोहित रोज की तरह आज भी लेट था! सब उसका ही इंतजार कर रहे थे पर अब तो आधे घंटे से ज़्यादा हो रहे थे!
सबको गुस्सा भी आ रहा था! फ़ोन पे फ़ोन करे जा रहे थे पर रोहित के ५ मिनट का अंत ही नई हो रहा था!
 
लेकिन सब को ये भी पता था की उन्हें ९.३० किसी भी हालत में उन सबको रवाना हो जाना था क्योंकि उन्हें जिस जगह जाना था वो रास्ता जंगल और पहाड़ो से गुज़रता था! रात का सफ़र करना खुद के लिए मुश्किलो को दावत देना था!
 
९.५० पर रोहित आता हुआ दिखाई दिया सब को ! और सब एक साथ उस पर चिल्लाना शुरू हो गये!
 
ये टाइम हैं तुम्हारे आने का? १ हफ्ते पहले ही सबको बताया गया था कि ९.३० तक किसी भी हालात मे घर से निकल जाना हैं!
 
एक हफ्तें पहले ही सब तय हो चुका था की कोई भी देर नही करेगा! तुम्हारे तो ये हर बार का ड्रामा हैं! अब रास्ते में कुछ परेशानी होगी तो तुम्हे ही देखना होगा!
 
लेकिन रोहित पसीने से पूरी तरह भीग चुका था! उसे कुछ भी समझ नही आ रहा था! उसके हाथ में आज का अख़बार था! वो उसके हाथ से गिर गया!
 
उसके सभी दोस्त उसके ऐसे व्यवहार से परेसान हो रहे थे! रोहित अब उनकी बातें सुनकर कर अचेत हो गिर पड़ा! सब उसे उठाने लगे ये क्या हुआ इसे ये हमे देख कर बेहोश क्यों हो गया !
 
तभी प्रिया की नज़र उस अख़बार के एक फोटो पे गई!
 
अरे ये क्या हैं?
उसने वो अख़बार उठाया और सभी उस अख़बार की उस फोटो को देखने लगे!
 
ये क्या ये तो हमारी फोटोग्राफ इस अख़बार में छपी हैं !
 
कल एक दुर्घटना में एक ही इन्स्टिट्यूट के २ छात्रा और ३ छात्रों की मौत हो गई!
 
गीत ज़ोर से चिल्लई !! हम मर चुके हैं? ये कैसे हो सकता हैं? उसने रोहित को उठाने के लिए अपना हाथ बढ़ाया !
वो रोहित को छू तक ना सकी!
 
सभी के चेहरे पर खामोशी थी !
 
लेकिन ये सब देखते ही एक साथ चिल्लाए - नहीं ईईईईईईईईईई
 
 
 
सब को अब एक नई सुबह का इंतजार था! जाने अब वो आएगी या नहीं.....................
 
 
कथाकार - (सुजाता मिश्रा)

Bhoot ki kahani latest in hindi, Scary stories in hindi, Scary stories from India, Scary stories imaginary, Scary stories India, Horror stories, Horror stories in Hindi, Horror stories for children, Horror stories from India