Diwali essay in Hindi, Diwali essay in Hindi language, Diwali essay in Hindi font, Diwali essay in Hindi for children, Diwali essay in Hindi for kids, Diwali essay in Hindi language, Diwali Festival essay in Hindi
Go to group page

Essay on Diwali in Hindi,Essay on Diwali in Hindi Language,Diwali Essay in Hindi For Kids

Diwali Essay in Hindi

 

दीपावली दो शब्दो से मिलकर बना हैं दीप +आवली. इसका अर्थ है, दीपो की पंक्ति अथवा कतार ।दीपावली कार्तिक माह की अमावस को मनाई जाती है। दीपावली के दिन सर्वत्र दीप जलाए जाते हैं ।धनतेरस,नरकचतुर्दशी,लक्ष्मीपूजन और बलिप्रतिपदा ये चार दिन दीपावली मनाई जाती है.चौदह वर्ष का बनवास समाप्त कर जब श्रीरामप्रभु अयोध्या लौटे तो उनकी खुशी में दीवाली मनाई जाती हैं.दीपावली के दिन प्रत्येक घर दीपों की पंक्तियों से शोभायमान रहता है। दीपों, मोमबत्तियों और बिजली की रोशनी से घर का कोना-कोना प्रकाशित हो उठता है। इसलिए दीपावली को रोशनी का पर्व भी कहा जाता है।

यह त्योहार अपने साथ ढेरों खुशियां लेकर आता है। एक-दो हफ्ते पूर्व से ही लोग घर, आंगन, मोहल्ले और खलिहान को दुरुस्त करने लगते हैं।दीपावली का दिन आने पर घर में खुशी की लहर दौड़ जाती है। बाजार में मिट्‍टी के दीपों, खिलौनों, खील-बताशों और मिठाई की दुकानों पर भीड़ होती है। दुकानदार, व्यापारी अपने बहीखातों की पूजा करते हैं और कई इसी दिन नए ‍वित्तीय वर्ष की शुरुआत भी करते हैं।

दीपावली के दिन भारत में विभिन्न स्थानों पर मेले लगते हैं। दीपावली एक दिन का पर्व नहीं अपितु पर्वों का समूह है। दशहरे के पश्चात ही दीपावली की तैयारियाँ आरंभ हो जाती है। लोग नए-नए वस्त्र सिलवाते हैं। दीपावली के दिन चारो तरफ रोशनी और उजाले का वातावरण होता हैं.दीपावली से दो दिन पूर्व धनतेरस का त्योहार आता है। इस बाजारों में चारों तरफ चहल-पहल दिखाई पड़ती है।

बर्तनों की दुकानों पर विशेष साजसज्जा व भीड़ दिखाई देती है। धनतेरस के दिन बरतन खरीदना शुभ माना जाता है अतैव प्रत्येक परिवार अपनी-अपनी आवश्यकता अनुसार कुछ न कुछ खरीदारी करता है। इस दिन तुलसी या घर के द्वार पर एक दीपक जलाया जाता है। इससे अगले दिन नरक चतुर्दशी या छोटी दीपावली होती है। इस दिन यम पूजा हेतु दीपक जलाए जाते हैं।

संध्या में  लोग माँ लक्ष्मी की पूजा करते हैं. लोग इस दिन घर में नये नये पकवान बनाते हैं. बच्चे नये नये कपड़े पहनते हैं. पूजा के बाद लोग पटाखे फोड़ते हैं. लाखों लोग आतिशबाज़ी को देखने के लिए इकट्ठा होते हैं.दीवाली भारत के अधिकांश में फसल के मौसम के अंत का प्रतीक है.किसान इस वर्ष से चला गया वर्ष के इनाम के लिए धन्यवाद, और आगामी वर्ष के लिए एक अच्छी फसल के लिए प्रार्थना करते हैं. 

Discussion started by Gaurav , on 313 days ago
Replies
Gaurav
दीपावली हमारे जीवन में खुशियाँ और नई उमँगो को लेकर आता हैं.यह त्यौहार बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक हैं.
624 days ago