Sawan Somvar 2014, श्रावण सोमवार व्रत, Sawan Somvar Vrat Katha,सावन सोमवार व्रत,Sawan Somvar Vrat Katha Hindi,Solah Somvar Vrat Katha in Hindi, Shravan somwar vrat, shravan somwar vrat 2014, shravan somwar vrat katha, shravan somwar vrat puja
Go to group page

Sawan Shivaratri 2014, Masik Shivaratri 2014 Vrat Dates

Masik Shivaratri 2014 Dates

Sawan Shivaratri date 2014 : 25th July 2014, Friday.

Shivaratri is great festival of convergence of Shiva and Shakti. Each month, Chaturdashi Tithi during Krishna Paksha is known as Masik Shivaratri.

Masik Shivaratri in month of Magha is known as Maha Shivaratri according to Amavasyant School. However according to Purnimant School Masik Shivaratri in month of Phalguna is known as Maha Shivaratri. In both schools it is naming convention of lunar month which differs. However both, Purnimant and Amavasyant Schools, celebrate all Shivaratris including Maha Shivaratri on same day.

 

  2014  Sawan Somvar Dates

 
 
                                                                                                                              
14 July (Monday) Sawan Somvar Vrat  
21 July (Monday) Sawan Somvar Vrat  
28 July (Monday) Sawan Somvar Vrat  
04 August (Monday) Sawan Somvar Vrat  
11 August (Monday) Sawan Somvar Vrat  
18 August (Monday) Sawan Somvar Vrat  
25 September (Monday) Sawan Somvar Vrat  
          
         
         
         
           
 
Discussion started by Vikas Mishra , on 269 days ago
Replies
Gaurav
Sawan Shivaratri is more popular in North Indian states - Uttarakhand, Rajasthan, Uttar Pradesh, Madhya Pradesh, Punjab, Himachal Pradesh and Bihar where Purnimant Lunar Calendar is followed. In Andhra Pradesh, Goa, Maharashtra, Karnataka, Gujarat and Tamil Nadu where Amavasyant Lunar Calendar is followed Sawan Shivaratri corresponds to Ashadha Shivaratri.

Famous Shiva temples in North India, Kashi Vishwanath and Badrinath Dham arrange special Pujas and Shiva Darshan during Sawan month. Thousands of Shiva devotees visit Shiva shrines during Sawan month and perform Gangajal Abhishekam.
447 days ago
 
Gaurav
मन छोड़ व्यर्थ की चिंता तू शिव

का नाम लिये जा

शिव अपना काम करेंगे तू अपना काम किये जा

शिव शिव शिव ऊँ: नम: शिवाय

शिव शिव शिव
447 days ago
 
Gaurav
Pi Ke Bhaang Jamaa Lo Rang

Jindagi Bite Khushiyon Ke Sang

Lekar Naam Shiv Bhole Ka

Dil Men Bhar Lo Shivraatri Ki Umang.

Aapke Sbhi Priyjnon Ko Shubh Maha Shivraatri.
447 days ago
 
Gaurav
Shiv Ko Sab Se Pyaar Hai

Unke Gale Men Shes Naag Kaa Haar Hai

Bhang Pio Aur Mast Ho Jao;

Kyonki Aaj To Shiv Shambhu Kaa Tyohaar Hai.

Happy Sawan Shivratri
447 days ago
 
Gaurav
Sawa Lakh Parthiv Shivling Pujan avam Bhagwat Katha will be held from 28th July to 4th August 2013 at 7.00 Am to 11.00 Am and 11.00 Am to 2:30 Pm in Shiv Mandir,Govind Khand,Near Jhilmil Colony ,Delhi.This pujan is organised by Acharya Dhirendra & Vivid Foundation.Special Puja for Groups and Jajmanat 3:00PM to 6:00PM.Bhagwat Katha and Shivling Pujan will be start at 7:00 Pm to 10:00Pm.
460 days ago
 
Vikas Mishra
Sawan Shivaratri ke awsar par sabhi bhakton ko hardik shubhkamna....
Har Har Mahadev...
826 days ago
 
Vikas Mishra
Shrawan Somavar Festival - 9th July 2012

Day - Monday

Celebration days - 16th Days (starting from 9th July) each weekly monday

Place - World wide (Hindu religion )

SHRAVAN SOMAR FAST METHOD

Sharavan somwar it’s a very auspicious festival in Hindu mythology. It’s a sixteen week festival and entire shravan month all devotees praying and offering ganga jal and milk to lord Shiva.

On this auspicious month, devotees keep fast on each Monday during the period of shravan month.

It is to be assumed that on this month if devotees keep fast with pure heart, faith and without any fear it will be shortly considered by the lord Shiva and its pleased lord Shiva too shortly.

Goddess Parvati started this fast to please the lord Shiva and also to marry with lord Shiva. For this Goddess Parvati did solah somvar fast on the month of Shravan.

By this shravan somvar fast Goddess Parvati pleased lord Shiva and after that she becomes consort of lord Shiva.

It’s a very sacred 16 days fast by which any one could find out his own wish if they are truly believed.

Fasting method of Shravan somvar

Fasting on first Monday of Shravan month – On first Monday devotees wakeup on the early morning. On this day devotees bath with mixed water of ‘Ganga jal’ or keeping bath over the river Ganga.

Main Deity - Lord Shiva is main deity of this auspicious festival beside of them devotees also worship Goddess Parvati, God Ganesha and Nandi.

Bathing - On this day people worship the lord shiva idol and offering ‘ganga jal’ to shivlinga either at home or may be at temple.

Cloths - Devotees wear fresh and white also orange colored cloths. White color cloths are preferred for this fast as white is the color of purity. White also symbolizes the virginity so generally unmarried people wear it also reflects peace and loyal love. It’s also a color of Monday. While orange gives the reflection of chanting.

So; generally unmarried people wear white color cloths on this occasion.

Rudraabhshek - Lord Shiva is main deity of shravan somvar fast. Rudraabhishek are commonly preferred by everywhere in India and hindu traditions.

Offering – Bathing the lord shiva idol and shivalingm with milk, curd, honey, ghee, sugar, Ganga jal with fresh water as given series.

Flowers - White color flower is offered by the devotees like lotus and lily.

Incense - Dhoop, deep and incense sticks are to be brunt at the front of God Shiva to please them.

Chadan - White color chandan and red roli is offered to please the Lord Shiva.

Fruits and leaves – Dhatura, Bhang and Bel patra is offered to Shiva Lingam.

Mantra - Repetition of God Shiva mantra is very beneficial as well as it gives inner satisfaction.

Fundamental Mantra - Om Namah Shivay!

Mahamrityunjya Mantra - Om tryambakam yajamahe, sugandhim pushtivardhanam,

Urvarukamiva bandhanan, mrityor mukshiya maamritat.

Fasting - Some people keeping Nirjala, some take fruit and some take one time food according to their wish.To please the Lord shiva devotees speak out their wishes in front of Nandi that Nandi could pass out their wishes in the front of Lord Shiva that he is one of the best devotee of the lord Shiva and Lord Shiva never deny it if he will tell them about them.

Havan - Repeating mantras or name of lord Shiva do hawan 108 times.

Aarti - After that by Lord Shiva aarti we accomplish this fast.

Om Jai Shiv Omkara, Hari Shiv Omkara,

Brahma Vishnu Sadashiv Ardhangi Dhara. Om Jai Shiv Omkara...

Ekanan Chaturanan Panchanan Raje,

Hansanan Garudaasan Vrashivahan Saje. Om Jai Shiv Omkara...

Do Bhuj Char Chaturbhuj Dus Bhuj Te Sohe,

Teenon Roop Nirakhata Tribhuvan Jan Mohe. Om Jai Shiv Omkara...

Akshmala Banmala Mundmala Dhari,

Chandan Mragmad Sohe Bhale Shashi Dhari. Om Jai Shiv Omkara...

Shvetambar Pitambar Baghambar Ange,

Sankadik Brahmadik Bhootadik Sange. Om Jai Shiv Omkara...

Kar Main Shreshth Kamandalu Chakra Trishul Dharta,

Jagkarta Jagharta Jag Palan Karta. Om Jai Shiv Omkara...

Brahma Vishnu Sadashiv Janat Aviveka,

Pranvakshar Ke Madhye Yeh Teenon Eka. Om Jai Shiv Omkara...

Trigun Shiv Ki Aarti Jo Koi Nar Gave,

Kahat Shivanand Swami Man Vanchhit Phal Pave.Om Jai Shiv Omkara...

...........................................................

On this auspicious festival, Devotees go to Babadham with Kanvar (two pots filled with water like a balance, they hang it over their shoulder), the devotees who take this we offen call them Kawariyan.

At Babadham at this time a huge celebration takes place on the shravan month, known as shrawan somvar fair.

सावन सोमवार व्रत विधी
Shravan somwar vrat katha hindi

सावन सोमवार का त्यौहार हिन्दू परम्परा के अनुसार बहुत ही पवित्र माना जाता हैं! सावन सोमवार का सोलह दिन का व्रत पार्वती जी ने शंकर भगवान को प्रसन्न करने के लिए तथा उन्हें अपने पति के रूप में वरण करने के लिए किया था!

इस व्रत को कोई भी शुद्ध मन से किसी भी मन्वान्क्षित फल की प्राप्ति के लिए कर सकता हैं!

कुवारें लड़के और लड़कियां अपने अच्छे तथा मन मुताविक जीवन साथी के चयन हेतु इस व्रत को करते हैं!

कोई भी सच्चे ह्रदय से यदि इस सावन के १६ सोमवार के व्रत की संपन्न करता हैं तो उसकी सभी इक्छायें भगवान् शंकर पूरी करते हैं !

इसी सावन सोमवार व्रत को माँ पार्वती ने करके भगवान शंकर को प्रसन्न किया था और उनकी अर्धांगिनी बनी!

१६ सोमवार के इस श्रावण सोमवार के व्रत को करके कोई भी अपने मन्वान्क्षित फल को प्राप्त कर सकता हैं!

श्रावन महीने के सोलह सोमवार व्रत की विधी

श्रावण सोमवार प्रथम दिन - श्रावन सोमवार के पहले दिन लोग सुबह जल्दी उठकर नित्य क्रिया से निवृत्त होकर गंगा नदी में स्नान को जाते हैं या फिर घर में ही गंगा जल मिला कर पानी से स्नान करते हैं !

मुख्य देवी तथा देवता - भगवान् शंकर की मुख्यतः पूजा अर्चना तथा रुद्राभिषेक का प्रावधान हैं ! भगवान् शंकर के अतिरिक्त माँ पार्वती के साथ गणेश जी और नंदी जी की भी पूजा का व्यवधान हैं !

गंगाजल स्नान - इस दिन भगवान शंकर की पूजा करते हैं! कई लोग घर में या फिर मंदिर जाकर शिवलिंग को गंगा जल से स्नान करवाते हैं!

स्वक्छ कपडे - इस दिन व्रती स्वक्छ कपड़े तथा सफ़ेद और जोगिया वस्त्र धारण कर पूजन करते हैं! सफ़ेद रंग जहाँ पवित्रता तथा शुद्धता को प्रदर्शित करता हैं जोगिया रंग मन को तपोबल के लिए प्रेरित कर व्रत को सफल बनता हैं! कुवारे लोग प्रायः सफ़ेद रंग के कपड़े पहन कर पूजन संपन्न करते हैं क्योंकि सफ़ेद रंग उनके कौमार्य को प्रदर्शित करता हैं !

रुद्राभिषेक - श्रावन सोमवार को भगवान शिवलिंग को रुद्राभिषेक करने का भी प्रावधान हैं ! व्रती स्वयं अथवा किसी ब्राह्मन के द्वारा रुद्राभिषेक संपन्न करवा सकते हैं!

स्नान - शिवलिंग को दूध, दही, शहद, घी, चीनी, गंगा जल और ताजे जल से स्नान दिए गए क्रमानुसार करवाते हैं !

चढाने के लिए फूल - सफ़ेद कमल, कुमुदनी और सफ़ेद रंग के फूलों से भगवान् शंकर प्रसन्न होते हैं !

चन्दन - सफ़ेद चन्दन तथा बीच में लाल रोली से शिवलिंग तथा भगवान शिव के मूर्ति का श्रिंगार किया जाता हैं!

फल - धतूरा, भाँग, बेल के पत्तें शिवलिंग पर चढाये जाते हैं !

धूप दीप - धूप, दीप और सुगन्धित अगरबत्तियों से भगवान शिव की स्तुति की जाती हैं!

जप - ॐ नमः शिवाय मंत्र का जप १०८ बार करना चाहिए! १०८ बार भगवान् शंकर के नाम तथा मंतोचरण से तुरंत ही मन को शांति का आभास होता हैं !

शिव जी के मृतुन्जय मंत्र सभी बाधाओं से मुक्ति प्रदान करने वाला मंत्र हैं !

ॐ त्र्यम्बकंम यजामहे, सुगंधिम पुष्टिवर्धनम,

उर्वारुकमिव बन्धनं, मृत्योर मुक्षीय मामृतात.

व्रत प्रावधान - श्रावन सोमवार का व्रत में व्रती निर्जला, फल से अथवा एक समय भोजन कर व्रत को सम्पन्न करते हैं ! भगवान शंकर के साथ माँ पार्वती, भगवान् गणेश की भी पूजा अर्चना की जाती हैं! इस दिन अगर आप अपनी ''इक्छा'' जो आप पाना चाहते हैं वह नंदी को भगवान शंकर के समक्ष रखने के लिए उनके कान में बोले जाने की प्रथा भी काफी प्रचलित हैं क्योंकि नंदी भगवान् शंकर के सबसे प्रिय भक्तों में एक माने जाते हैं और नंदी की बात भगवान् शिव कभी भी नहीं कटते !
हवन - आम की लकड़ियों, घी, दही चीनी, और सूखे हवन सामग्री से जप करते हुए १०८ बार हवन किया जाता हैं !

आरती - भगवान शिव की आरती से पूजा संपन्न की जाती हैं !

ॐ जय शिव ओंकारा, ॐ जय शिव ओंकारा.

ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, कह भोलेनाथ महाशिव, अर्द्धांगी धारा. ॐ हरहर महादेव...

एकानन, चतुरानन, पंचानन राजे.

हंसानन, गरुड़ासन, वृषवाहन साजे. ॐ जय...

दो भुज चार चतुर्भुज, दश भुज अति सोहे.

तीनों रुप निरखता, त्रिभुवन जन मोहे. ॐ जय...

अक्षमाला वनमाला, रुण्डमाला धारी.

चन्दन मृग मद सोहे, भोले शुभकारी. ॐ जय...

श्वेताम्बर, पीताम्बर, बाघम्बर अंगे.

सनकादिक, ब्रह्मादिक, भूतादिक संगे. ॐ जय...

कर में श्वेत कमंडल चक्र त्रिशूल धरता.

जग करता दुख हरता, जग पालन करता. ॐ जय...

ब्रह्मा, विष्णु सदाशिव, जानत अविवेका

प्रणवाक्षर के मध्य, ये तीनों एका. ॐ जय...

त्रिगुण स्वामी जी की आरती जो कोई नर गावे.

कहत शिवानन्द स्वामी, मन वांछित फ़ल पावै. ॐ जय...

............................................................

''श्रावन सोमवार के इस व्रत में भक्तगण काँवर लेकर बाबा धाम पैदल जाते हैं और जो व्रती ये काँवर लेकर जाते हैं उन्हें काँवरिया नाम से जाना जाता हैं !

श्रावन महीने में बाबा धाम में एक बहुत बड़ा मेला लगता हैं जो संसार में श्रावन मेले के नाम से जाना जाता हैं ! ''

shravan somwar vrat 2012, shravan somwar vrat katha, shravan somwar vrat puja, shravan somwar vrat katha, shravan somwar vrat puja, shravan somwar katha, shravan somwar vrat katha, shravan somwar vrat vidhi, shravan somwar katha, shravan sawan somvar vrat katha, shravan somwar vrat, shravan somwar vrat 2012, shravan somwar vrat katha hindi, sawan somvar vrat katha vidhi

840 days ago
 
Vikas Mishra
Sawan Somvar 2012,श्रावण सोमवार व्रत, Sawan Somvar Vrat Katha,सावन सोमवार व्रत,Sawan Somvar Vrat Katha Hindi,Solah Somvar Vrat Katha in Hindi.

Sawan Somvar 2012 : In 2012, Shravan Mahina is from 4th July 2012 to 2nd August 2012.

Mondays in the Hindi month of Shravan or Shrawan (July – August) is dedicated to Lord Shiva and Hindus in North India observe Shravan Mas Somvar Vrata or Sravan Somavara Upvaas. In this month, Shivling is bathed with holy water from River Ganga. Fasting is observed from sunrise to sunset on all Mondays in the month. In 2012, Shravan Somvar days are July 9, July 16, July 23 and July 30 as per traditional calendar followed in North India.
In Maharashtra and Gujarat Shravan Somvar Vrat in 2012 is on July 23, July 30, August 6 and August 13.
July 9, 2012 - Monday

2012 श्रावण सोमवार व्रत प्रारंभ~Sravan(Sawan) Somvar vrat 2012 Dates

9 July 2012 ~ श्रावण सोमवार व्रत प्रारंभ~Sravan(Sawan) Somwar vrat Starts

16 July 2012 ~ श्रावण सोमवार व्रत-2~Sravan(Savan) Somvar vrat-2

23 July 2012 ~ श्रावण सोमवार व्रत-3~Srawan(Sawan) Somvar vrat-3

30 July 2012 ~ श्रावण सोमवार व्रत-4 ~Sravan(Sawan) Somvar vrat-4

सावन के सोमवार-व्रत की कथा और पूजन विधि – Solah Somvar Vrat Katha :
सावन का पूरा महीना यूं तो भगवान शिव को अर्पित होता ही है पर सावन के पहले सोमवार को भगवान शिव की पूजा करने से विशेष फल मिलता है. भारत के सभी द्वादश शिवलिंगों पर इस दिन विशेष पूजा-अर्चना की जाती है. आदिकाल से ही इस दिन का विशेष महत्व रहा है. कहा जाता है सावन के सोमवार का व्रत करने से मनचाहा जीवनसाथी मिलता है और दूध की धार के साथ भगवान शिव से जो मांगो वह वर मिल जाता है.

shiv parivarसावन के सोमवार की महिमा अपार है और इसीलिए हम आपके लिए सोमवार के व्रत की कथा और उसके पूजन की विधि को लेकर आएं हैं.

पिछले कुछ ब्लॉगों में हमने आपको कई अहम चालिसाओं, आरतियों और अन्य धार्मिक चीजों से रूबरू करवाया और अब हमारा प्रयास है कि हम उन सभी लोगों की मदद करें जो व्रत रखते हैं.
सावन के सोमवार के व्रत की कथा :
एक कथा के अनुसार जब सनत कुमारों ने महादेव से उन्हें सावन महीना प्रिय होने का कारण पूछा तो महादेव भगवान शिव ने बताया कि जब देवी सती ने अपने पिता दक्ष के घर में योगशक्ति से शरीर त्याग किया था, उससे पहले देवी सती ने महादेव को हर जन्म में पति के रूप में पाने का प्रण किया था. अपने दूसरे जन्म में देवी सती ने पार्वती के नाम से हिमाचल और रानी मैना के घर में पुत्री के रूप में जन्म लिया. पार्वती ने सावन के महीने में निराहार रह कर कठोर व्रत किया और उन्हें प्रसन्न कर विवाह किया, जिसके बाद ही महादेव के लिए यह विशेष हो गया. यही कारण है कि सावन के महीने में सुयोग्य वर की प्राप्ति के लिए कुंवारी लड़कियों व्रत रखती हैं.

सोमवार व्रत विधि:
सोमवार व्रत में भगवान भगवान शंकर के साथ माता पार्वती और श्री गणेश की भी पूजा की जाती है. व्रती यथाशक्ति पंचोपचार या षोडशोपचार विधि-विधान और पूजन सामग्री से पूजा कर सकता है. व्रत स्त्री-पुरुष दोनों कर सकते हैं. शास्त्रों के मुताबिक सोमवार व्रत की अवधि सूर्योदय से लेकर सूर्यास्त तक है. सोमवार व्रत में उपवास रखना श्रेष्ठ माना जाता है, किंतु उपवास न करने की स्थिति में व्रती के लिए सूर्यास्त के बाद शिव पूजा के बाद एक बार भोजन करने का विधान है. सोमवार व्रत एक भुक्त और रात्रि भोजन के कारण नक्तव्रत भी कहलाता है.

सावन के पहले सोमवार की पूजा विधि :

प्रात: और सांयकाल स्नान के बाद शिव के साथ माता पार्वती, गणेश जी, कार्तिकेय और नंदी जी पूजा करें. चतुर्थी तिथि होने से श्री गणेश की भी विशेष पूजा करें. पूजा में मुख पूर्व दिशा या उत्तर दिशा की ओर रखें. पूजा के दौरान शिव के पंचाक्षरी मंत्र “ॐ नम: शिवाय” और गणेश मंत्र जैसे “ॐ गं गणपतये” बोलकर भी पूजा सामग्री अर्पित कर सकते हैं.

पूजा में शिव परिवार को पंचामृत यानी दूध, दही, शहद, शक्कर, घी व जलधारा से स्नान कराकर, गंध, चंदन, फूल, रोली, वस्त्र अर्पित करें. शिव को सफेद फूल, बिल्वपत्र, सफेद वस्त्र और श्री गणेश को सिंदूर, दूर्वा, गुड़ व पीले वस्त्र चढ़ाएं. भांग-धतूरा भी शिव पूजा में चढ़ाएं. शिव को सफेद रंगे के पकवानों और गणेश को मोदक यानी लड्डूओं का भोग लगाएं.

भगवान शिव व गणेश के जिन स्त्रोतों, मंत्र और स्तुति की जानकारी हो, उसका पाठ करें. श्री गणेश व शिव की आरती सुगंधित धूप, घी के पांच बत्तियों के दीप और कर्पूर से करें. अंत में गणेश और शिव से घर-परिवार की सुख-समृद्धि की कामनाएं करें.
840 days ago