Narad Jayanti, नारद, Narad Jayanti 2015, Narad Muni, Narad Muni jokes, Narad Muni marriage, Narad Muni images, Narada muni, Narada muni stories, Narada muni photos, Narada muni lyrics, Narada Muni vedalina

Narad Jayanti, नारद, Narad Jayanti 2015, Narad Muni, Narad Muni jokes, Narad Muni marriage, Narad Muni images, Narada muni, Narada muni stories, Narada muni photos, Narada muni lyrics, Narada Muni vedalina
Category:
Created:
Tuesday, 10 April 2012
Group Admins:

Event / Festivals - Narad Jayanti Date 2015- 5th May,Tuesday Mantra - Narayan -2 Nārada means = Naara + Da = Wisdom + Da = Giver Devotee of - Lord Vishnu or Lord Narayana Carried musical Instrument - Veena Narad Jayanti will be celebrate on  5th May 2015. According to hindu mythology, Narad muni is one of the seven manas putras of God Brmha. He did very hard penance to please the Lord Vishnu after that he got the ‘Brahm-Rishi’ honour. Narad muni also assumed to be one of the best devotee of Lord Vishnu.

There are no announcements yet.
Narad Jayanti in 2013 will be observed on 26th May,Sunday in the India.
Last replied by Nitin Mukesh on Monday, 13 May 2013
स्वर्ग में शराब पी पी कर नारद जी बोर हो गए तो एक दिन धरती पर बियर पीने का प्रोग्रामबनाया और एक बार में पहुँच गए।बारह बोतल पीने के बाद वेटर ने हैरान होते हुए नारद से पूछा,वेटर: "आपको चढ़ती नहीं क्या?"नारद जी मुस्कुराते हुए बोले: "मैं भगवान हूँ ना इसलिए"वेटर: "अब चढ़ी साले को"
Last replied by Nitin Mukesh on Tuesday, 14 May 2013
Narad Muni Temple is also located at Gopalpur lies 2.5 km soth of pandharpur. Narada muni’s small temple demonstrates his everyday’s visit to witness this.
Last replied by Nitin Mukesh on Tuesday, 14 May 2013
Narad ji ke prasno me chupa vaidik anupam gyan
Last replied by Nitin Mukesh on Tuesday, 14 May 2013
एक दिन नारद मुनि कैलास की ओर जा रहे थे। उस व़क्त कंटकमुखी नामक एक यक्षिणी मज़ाक़ करती हुई बोली, ‘‘नारद, मेरे साथ विवाह करो। हे ब्रह्मपुत्र! ब्रह्मा के बंधनों से मुक्त हो जाओ।'' इसपर नारद बोले, ‘‘मैं कलहभोज हूँ ! कलह पैदा करने वाली मुझे मिल जाय, तब न विवाह करूँ?'' ‘‘मैं तुमसे भी ज़्यादा झगड़ालू हूँ।'' यक्षिणी ने कहा। उस व़क्त विघ्नेश्वर और कुमारस्वामी हाथों में हाथ डाले चले आ रहे थे। उन्हें देख नारद ने यक्षिणी से पूछा, ‘‘क्या तुम उन दोनों भाइयों के बीच झगड़ा पैदा कर सकती हो?'' ‘‘उफ़ ! यह कौन-सी बड़ी बात है !'' यों कहकर कंटकमुखी दल सरोवर में कूद पड़ी और सोने के कमल के रूप में बदलकर बोली, ‘‘मैं पार्वती और परमेश्वर के सुपुत्र के वास्ते खिल गई हूँ।'' इस पर दोनों भाई उस फूल को हाथ में लेकर झगड़ा करने लगे, ‘‘यह फूल मेरा है !'' कुमारस्वामी ने कहा, ‘‘हे गणेश, तुम तो माँ के द्वारा बनाये गये खिलौने हो, मैल के ढेले हो !'' इसके जवाब में विघ्नेश्वर बोले, ‘‘तुम तो गंदे शरवण सरोवर में पैदा हो गये हो न !'' कुमारस्वामी नाराज़ होकर अपनी मुट्ठी बांधकर गणेश पर प्रहार करने को हुए, तब विघ्नेश्वर ने अपनी सूँड़ से कुमारस्वामी की कमर कसकर ऊपर उठाया। कुमारस्वामी ने विघ्नेश्वर की तोंद पर भाले का निशाना बनाया। इसे देख नारद मुनि दौड़े-दौड़े आये और बीच-बचाव करते बोले, ‘‘आप दोनों एक दॉंव लगाइये !''
Last replied by Nitin Mukesh on Monday, 13 May 2013
नारद मुनि हिन्दू शास्त्रों के अनुसार, ब्रह्मा के सात मानस पुत्रों में से एक है।
Last replied by Nitin Mukesh on Monday, 13 May 2013